कश्मकश ए ज़िंदगी

कश्मकश ए ज़िंदगी


*दुनिया भी देखी नहीं अभी,*

*ना जाने किस बोज तले, दुनिया छूट गयी !*

*वक्त को समजा भी नहीं अभी,*

*ना जाने किस अंधेरे में उजाले की किरण छूट गयी मुबारक !!*


*कारोबारे दुनिया की हरपल विवशता ,*

*ना जाने किस किस विवशता में लूट गयी ज़िंदगी !*

*कभी तो टहरो, कभी तो लम्बी सांस लो,*

*ना जाने किन किन कश्मकश ए ज़िंदगी में, जीने राह छूट गयी मुबारक*


*क्या पावोगे, नोटोकी थप्पिया लगाके,*

*कभी तो रुक जा बेकार की भागदौड़ में, ए बंदे !*

*ना चैन, ना सुकून, ना नींद, सबक़ुच पाके,*

*ना जाने क्यूँ और कैसे रात की गहरायी में, सुकून का साया छूट गया मुबारक*


*आ मिल बैठ के, इतमीनान से गुफ़्तगू करे कभी ए दोस्त,*

*फ़ितरत के नज़ारे, कुदरत के करिश्मे, खो जाए कभी इनमे !*

*पैदा हुए क्यूँ, जी रहे क्यूँ, आ समजे कभी ए दोस्त,*

*ना जाने मौत दबे पाव कब आ जाए अंजाने पल में, फिर पछताने का मौक़ा मिल ना पाएगा मुबारक !!*


~ मुबारक *अंजाना*


💐💐💐


*